चले सनातन की ओर

“बसंत पंचमी के दिन करें ये काम”

“बसंत पंचमी के दिन करें ये काम”

बसंत पंचमी ज्ञान की देवी मां सरस्वती की आराधना का दिन होता है। हिंदू पंचाग के अनुसार हर वर्ष माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को विद्या और बुद्धि की देवी माता सरस्वती की आराधना का दिन होता है।

इसी उपासना के दिन को बसंत पंचमी कहा जाता है। इस दिन संगीत कला और ध्यात्म का आशीर्वाद भी लिया जा सकता है। ऐसा कहा जाता है कि यदि किसी की कुंडली में विद्या बुद्धि का योग नहीं है या शिक्षा में बाधा आ रही है तो इस दिन मां शारदा की आराधना अवश्य करनी चाहिए।

सरस्वती पूजन के बाद सर्वप्रथम गणेश जी की पूजा और बाद में रति और कामदेव की पूजा करना लाभदायक माना जाता है।

हिंदू परंपरा में ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन छोटे बच्चों को शिक्षा देने की शुरुआत की जाती है। इसी के साथ बसंत पंचमी के दिन छह माह तक के बच्चे को पहली बार अन्न भी खिलाया जाता है।

बच्चें को नए कपड़े पहना कर उसे चौंकी पर लाल वस्त्र बिछाकर बैठाना चाहिए और उसके बाद चांदी के चम्मच से अन्न खिलाना चाहिए। शास्त्रों में इस दिन को अन्नप्राशन के नाम से भी जाना जाता है।

माना जाता है कि सरस्वती पूजन के साथ इस दिन कुछ उपाय करने से बच्चे की बुद्धि कुशाग्र होती है। इस दिन पीले रंग के कपड़े पहन कर पूजा करने का विशेष महत्व होता है। माता सरस्वती के साथ नवग्रह का भी पूजन किया जाता है।

शास्त्रों के अनुसार इस दिन मांगलिक कार्यों के लिए अबूझ मुहूर्त होता है। मान्यता है कि इस दिन विवाह करने पर भगवान स्वयं धरती पर आकर वर-वधु को आशीर्वाद देते हैं।

कई लोग बंसत पंचमी के दिन नींव पूजन, गृह प्रवेश, वाहन खरीदना और नवीन व्यापार शुरु करते हैं। माना जाता है कि इस दिन मांगलिक कार्य करने से भगवान की कृपा बनी रहती है।

Supported by Astrologer Dr. Rajender Kumar

 

Facebook Comments

You may also like